रायपुर नक्सली हमलाः उच्चस्तरीय बैठक जारी, राजनाथ और रमन मौजूद नक्सल ऑपरेशन से जुड़े आला अधिकारी कर रहे मंथन   |   बीजापुर- बीजापुर के उसूर क्षेत्र में चल रही पुलिस नक्सली मुठभेड़। ताजा जानकारी में एक नक्सली के मारे जाने व कुछ नक्सलियों के घायल होने की सूचना। मारे गए नक्सली के शव के साथ उसका हथियार भी किया गया जवानों के द्वारा बरामद। मुठभेड़ अभी भी जारी। बीजापुर एसपी मोहित गर्ग ने की पुष्टि   |   रायपुर -:केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के साथ अम्बिकापुर (सरगुजा) में आयोजित कार्यक्रम में बस्तरिया बटालियन के पासिंग आउट परेड की सलामी ली..   |   रायपुर : केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह रायपुर पहुंचे , माना विमानतल पर हुआ आत्मीय स्वागत   |   रायपुर : विकास यात्रा 2018 : मुख्यमंत्री के साथ कटघोरा क्षेत्र की जनता ने शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि   |   कांकेर/दंतेवाड़ा - पुलिस नक्सली मुठभेड़, 5 जवान शहीद, 3 घायल, हथियार लूटकर भागे नक्सली बचेली चोलनार मार्ग पर नक्सलियों ने किया आईईडी ब्लास्ट   |   रायगढ : जिन्दल खैरपुर के पास ग्राम सीतापुर में बिजली बनाते हुए करंट लगने से 30 वर्षीय युवक कि मौत ....!   |   रायपुर : मुख्यमंत्री 18-20 मई तक तीन दिवसीय विकास यात्रा में रहेंगे : पांच जिलों को देंगे डेढ़ हजार करोड़ के निर्माण कार्याें की सौगात   |   रायगढ़-:जूटमिल पुलिस को मिली बड़ी सफलता,ग्राम गडुमरिया से अवैध शराब का जखीरा बरामद,सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जूटमिल पुलिस ने आज गडुमरिया से बड़ी मात्रा में अवैध शराब जब्त किया है,   |   सरायपाली शहर के पास नेशनल हाईवे पर H P गैस से भरा टैंकर पलटा !   |  

 

राज्य

Share
09-May-2018 5:59:21 pm
Posted Date

काशी के व्यापिरियों ने निकाला न्याय मार्च।

सुदीप्तो चटर्जी - विशेष रिपोर्ट ::- मंगलवार की देर रात काशी के विश्वनाथ मंदिर छत्ता द्वार के पास रात में दुकान तोड़ने के प्रयास किये गए और एक दुकान का ताला तोड़कर सामान फेंके गए जिसके विरोध में व्यापारियों ने बुधवार शाम 6 बजे आज राष्ट्रीय ध्वज के साथ छत्ताद्वार से चौक थाना तक व्यापारियों एक साथ होकर न्याय मार्च निकाला और थाने पर दुकान का ताला तोड़ने वाले कर्मचारियों के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज करने की मांग को लेकर घंटों थाने पर जमे रहे। ज्ञात हो कि काशी में विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर हेतु पुराणों में वर्णित मंदिर तोड़ दिए गए जिससे वहां निवासरत देवताओं की पूजा बन्द हो गई। इस विषय को गंभीरता से लेते हुए ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि तथा श्रीविद्या मठ के प्रमुख दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने मंदिर बचाओ आंदोलन की शुरुवात की जिसे काशीवासियों के साथ साथ दूसरे संत महात्माओं ने उनका साथ दिया और विगत दिन शंखनाद पश्चात काशी के अस्सी घाट से राजघाट तक पदयात्रा किये जिसमे बटुकों के साथ साथ विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने भी पदयात्रा में शामिल होकर विरोध दर्ज करवाया। जगह जगह पदयात्रा का स्वागत किया गया। दूसरे दिन महिलाओं ने भी सूप बजाकर विरोध दर्ज करवाए। आज बुधवार नाविक संगठनों ने भी स्वामिश्री का साथ देते हुए विरोध प्रदर्शन किए। काशी को बचाने, धरोहर को बचाने, काशी को मूल स्वरूप में रखने हेतु यह आंदोलन विकट रूप धारण करते जा रहा है जिसे शासन एवं प्रशासन को त्वरित निर्णय लेते हुए कॉरिडोर के ब्लू प्रिंट में बदलाव करना होगा। काशी में देवताओं का वास है तथा धर्म नगरी के नाम से काशी प्रसिद्ध है। लोगों का मानना है यदि विध्वंश के कारण देवता काशी छोड़ देते हैं तो इसके दुष्परिणाम सामने आने लगेंगे।

राज्य » काशी के व्यापिरियों ने निकाला न्याय मार्च।

राज्य » काशी के व्यापिरियों ने निकाला न्याय मार्च।