पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, दिल्ली के एम्स में 5:5 मिनट पर ली अंतिम सांस   |   कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से मिलने एम्स पहुंचे   |   -भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा एम्स में मौजूद हैं।   |   जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का हाल जानने एम्स पहुंचे।   |   पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं, दुआओं का दौर जारी   |   रायपुर - मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन होंगी छत्तीसगढ़ की प्रभारी राज्यपाल   |   रायपुर : राज्यपाल टंडन का निधन: मुख्यमंत्री ने की सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा   |   रायपुर : मुख्यमंत्री ने राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया : प्रदेश ने अपने एक अभिभावक को हमेशा के लिए खो दिया : डॉ. रमन सिंह   |   रायपुर : रेरा में पंजीयन के लिये कॉलोनाइजरों की बैठक आज   |   रायपुर धान और मक्का किसानों का पंजीयन 16 अगस्त से 31 अक्टूबर तक : राज्य सरकार द्वारा परिपत्र जारी   |  

 

राज्य

Share
09-May-2018 5:59:21 pm
Posted Date

काशी के व्यापिरियों ने निकाला न्याय मार्च।

सुदीप्तो चटर्जी - विशेष रिपोर्ट ::- मंगलवार की देर रात काशी के विश्वनाथ मंदिर छत्ता द्वार के पास रात में दुकान तोड़ने के प्रयास किये गए और एक दुकान का ताला तोड़कर सामान फेंके गए जिसके विरोध में व्यापारियों ने बुधवार शाम 6 बजे आज राष्ट्रीय ध्वज के साथ छत्ताद्वार से चौक थाना तक व्यापारियों एक साथ होकर न्याय मार्च निकाला और थाने पर दुकान का ताला तोड़ने वाले कर्मचारियों के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज करने की मांग को लेकर घंटों थाने पर जमे रहे। ज्ञात हो कि काशी में विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर हेतु पुराणों में वर्णित मंदिर तोड़ दिए गए जिससे वहां निवासरत देवताओं की पूजा बन्द हो गई। इस विषय को गंभीरता से लेते हुए ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि तथा श्रीविद्या मठ के प्रमुख दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने मंदिर बचाओ आंदोलन की शुरुवात की जिसे काशीवासियों के साथ साथ दूसरे संत महात्माओं ने उनका साथ दिया और विगत दिन शंखनाद पश्चात काशी के अस्सी घाट से राजघाट तक पदयात्रा किये जिसमे बटुकों के साथ साथ विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने भी पदयात्रा में शामिल होकर विरोध दर्ज करवाया। जगह जगह पदयात्रा का स्वागत किया गया। दूसरे दिन महिलाओं ने भी सूप बजाकर विरोध दर्ज करवाए। आज बुधवार नाविक संगठनों ने भी स्वामिश्री का साथ देते हुए विरोध प्रदर्शन किए। काशी को बचाने, धरोहर को बचाने, काशी को मूल स्वरूप में रखने हेतु यह आंदोलन विकट रूप धारण करते जा रहा है जिसे शासन एवं प्रशासन को त्वरित निर्णय लेते हुए कॉरिडोर के ब्लू प्रिंट में बदलाव करना होगा। काशी में देवताओं का वास है तथा धर्म नगरी के नाम से काशी प्रसिद्ध है। लोगों का मानना है यदि विध्वंश के कारण देवता काशी छोड़ देते हैं तो इसके दुष्परिणाम सामने आने लगेंगे।

राज्य » More Photo

राज्य » More Video

LEAVE A COMMENT